Khushi Jab Bhi Teri lyrics

Khushi Jab Bhi Teri lyrics in Hindi & English Jubin Nautiyal 2021

5/5 - (1 vote)

Khushi Jab Bhi Teri lyrics in Hindi & english is available on lyricspoet.com

Khushi Jab Bhi Teri lyrics

Song: Khushi Jab Bhi Teri

Singer: Jubin Nautiyal

Music: Rochak Kohli

Lyrics: A M Turaz

Release date : 23/8/2021

Khushi Jab Bhi Teri Lyrics in English

Khushi Jab Bhi Teri lyrics

Saari Galiyan Teri

Jagmaga Dunga Main

Har Subah Teri Khud Ko

Bana Dunga Main

Saari Galiyan Teri

Jagmaga Dunga Main

Har Subah Teri Khud Ko

Bana Dunga Main

Tu Chalegi Jo Ghar Se

Nikal Ke Kahin

Toh Raste Mein Khud Ko

Bichha Dunga Main

Khuda Jaane Mujhme

Tu Kya Dekhti Hai

Main Tujhme Khuda Ka

Karam Dekhta Hoon

Khushi Jab Bhi Teri

Ho Khushi Jab Bhi Teri

Main Kam Dekhta Hoon

Khushi Jab Bhi Teri

Main Kam Dekhta Hoon

Toh Phir Main Kahan

Apne Gham Dekhta Hoon

Khushi Jab Bhi Teri

Main Kam Dekhta Hoon

Toh Phir Main Kahan

Apne Gham Dekhta Hoon

Kayi Roz Tak

Paani Peeta Nahi Phir

Haan Kayi Roz Tak

Paani Peeta Nahi Phir

Main Jab Teri Aankhon Ko

Nam Dekhta Hoon

Khushi Jab Bhi Teri

Ho Tu Dekhe Na Dekhe

Humein Gham Nahi

Magar Tujhko Dekhe

Bina Hum Nahi

Ho Tu Dekhe Na Dekhe

Humein Gham Nahi

Magar Tujhko Dekhe

Bina Hum Nahi

Khyalon Mein Har Pal

Hi Rehta Hai Tu

Yeh Rehne Ko zinda

Humein Kam Nahi

Tere Sath Ke Ek

Lamhe Mein Bhi Main

Tere Sath Ke Sau

Janam Dekhta Hoon

Khushi Jab Bhi

Tujhko Kiya Yaad

Duniya Bhulayi Hai

Seene Mein Aisi

Lagan Ik Lagayi Hai

Teri Tanhaai Meri

Jaan Pe Ban Aayi Hai

Milne Ki Mahu Dua

Milne Ki Mahu Dua

Nazar Bhar Ke Jab

Dekhta Hoon Tujhe Main

Toh zhakhmo Pe Dil Ke

Marham Dekhta Hoon

Khushi Jab Bhi Teri

Main Kam Dekhta Hoon

Toh Phir Main Kahan

Apne Gham Dekhta Hoon

Khushi Jab Bhi Teri

Main Kam Dekhta Hoon

Toh Phir Main Kahan

Apne Gham Dekhta Hoon

Khushi Jab Bhi Teri

Khushi Jab Bhi Teri

Khushi Jab Bhi Teri.

Khushi Jab Bhi Teri Lyrics in Hindi

सारी गलियां तेरी जगमगा दूंगा मैं

हर सुबह तेरी ख़ुदको बना दूंगा मैं

सारी गलियां तेरी जगमगा दूंगा मैं

हर सुबह तेरी ख़ुदको बना दूंगा मैं

तू चलेगी जो घर से निकल के कहीं

तो रस्ते में ख़ुदको बिछा दूंगा मैं

ख़ुदा जाने मुझमें तू क्या देखती है

मैं तुझमें ख़ुदा का करम देखता हूं

ख़ुशी जब भी तेरी…

ओ ख़ुशी जब भी तेरी

मैं कम देखता हूं

ख़ुशी जब भी तेरी

मैं कम देखता हूं

तो फ़िर मैं कहाँ

अपने ग़म देखता हूं

ख़ुशी जब भी तेरी

मैं कम देखता हूं

तो फ़िर मैं कहाँ

अपने ग़म देखता हूं

कई रोज़ तक पानी

पीता नहीं फ़िर

हां कई रोज़ तक पानी

पीता नहीं फ़िर

मैं जब तेरी आँखों को

नम देखता हूं

ख़ुशी जब भी तेरी…

हो तू देखे न देखे हमें ग़म नहीं

मगर तुझको देखे बिना हम नहीं

तू देखे न देखे हमें ग़म नहीं

मगर तुझको देखे बिना हम नहीं

ख़यालों में हरपल ही रहता है तू

ये रहने को ज़िंदा हमे कम नहीं

तेरे साथ के एक लम्हें में भी मैं

तेरे साथ के सौ जनम देखता हूं

ख़ुशी जब भी…

तुझको किया याद

दुनिया भुलाई है

सीने में ऐसी लगन

एक लगाई है

तेरी तन्हाई मेरी

जान पे बन आयी है

मिलने की मांगू दुआ

मिलने की मांगू दुआ

नज़र भरके जब देखता हूं तुझे मैं

तो ज़ख्मों पे दिलके मरहम देखता हूं

ख़ुशी जब भी तेरी

मैं कम देखता हूं

तो फ़िर मैं कहाँ

अपने ग़म देखता हूं

ख़ुशी जब भी तेरी

मैं कम देखता हूं

तो फ़िर मैं कहाँ

अपने ग़म देखता हूं

ख़ुशी जब भी तेरी

ख़ुशी जब भी तेरी

ख़ुशी जब भी तेरी…

Click here for Khushi Jab Bhi Teri Piano notes

Details of Khushi Jab Bhi Teri lyrics

error: Content is protected !!
Scroll to Top